CBSE Std 8 Hindi “101,प्रभु कुंज (101,prabhu kunj)” question-answer- स्मृति पिटारा

Hindi (CBSE)

101,प्रभु कुंज

 

  • (स्मृति पिटारा ) Question-answer 

१ ) लता जी के आराध्य देवों की सूची में किन-किन देवों के नाम सम्मिलित हैं ?
उतर-लता जी के आराध्य देवों की सूची में मंगेश,श्रीकृष्ण ,गणपति ,सरस्वती,लक्ष्मी आदि सम्मिलित है।

२ ) ‘101,प्रभु कुंज’ नामक जीवनी की प्रमुख पात्र लता जी नगर के अत्यंत संभ्रांत क्षेत्रों में रहने का सामर्थ्य होने पर भी ‘प्रभु कुंज ‘ जैसे साधारण घर में क्यों रहती हैं ?
उतर-लता जी अपने काम में बहुत व्यस्त थी ,इसलिए उसको नया बंगला खरीदने के बारे में सोचने का समय ही नहीं मिला। बाद में कुछ जगह देखी भी पर उसको कुछ अजीब सा आभास होता था ,इसलिए वह जगह नहीं खरीदती। एक जगह उसने इमारत में एक मंजिल खरीदी पर वो इमारत अटकी पड़ी है। इस सब के कारण वो साधारण घर में रहती हैं।

३ ) लेखक के अनुसार ऐश्वर्य की झलक किन दो प्रकार के लोगों में दिखाई देती है ? लता जी को आप किस श्रेणी में रखेंगे ?
उतर-लेखक के अनुसार ऐश्वर्य की झलक दो प्रकार के लोगों में दिखाई देती है :१) जो ऐश्वर्य को तरसते हैं ,पर धनवान या सफल बनने तक का इंतज़ार नहीं कर सकते २) सफलता-प्राप्त लोग,जिनके जीवन-स्तर से ही ऐश्वर्य छलकता है। मेरे ख्याल से लता जी इसमें से किसी भी श्रेणी में नहीं है।(आप अपना विचार लिख सकते है )

४ ) लता जी के कमरे के शो केस में किन चीजों की प्रमुखता हे ?

उतर-लता जी के कमरे के शो केस में किताबें और संगमरमर की कलात्मक मूर्तियाँ हैं।

५ ) लता जी के घर में संगीत साधना के लिए प्रयोग में लाया जाने वाला कक्ष कैसा है ?
उतर-लता जी के घर में संगीत साधना के लिए प्रयोग में लाया जाने वाला कक्ष 6 फीट चौड़ा और 8 फ़ीट लम्बा था। कमरे की सजावट सादगीपूर्ण थी। एक दीवार पर 4 तानपुरे रखे थे.उसके पास संगीत में तकनीकी विकास के दो साधन 1) तानपुरा 2)मेट्रोनॉम रखे थे। कमरे के बीच में एक हारमोनियम और एक जोड़ी तबले थे।

६ ) घर में किसी की सालगिराह होने पर वे क्या सोचने में व्यस्त हो जाती थीं ?
उतर-घर में किसी की सालगिराह होने पर रात ठीक बारह बजे, जिसकी उम्र बढ़ी है , उसको भेंट देने की सोच में लता जी व्यस्त हो जाती थी।

७ ) व्यावसायिक और गैर- व्यावसायिक छाया चित्रकरों के बिच मुख्य अंतर क्या है ?
उतर-व्यावसायिक छाया चित्रकार को ‘मॉडल’ ढूँढते फिरते हैं ,जब कि ग़ैर-व्यावसायिक फोटोग्राफर ,खुद मॉडल ढूँढते हैं।

८ ) आशय स्पष्ट कीजिए –

अ ) सर्वशक्तिमान पर इतनी उत्कटता से विश्वास करनेवाला व्यक्ति ,अपने कार्य में सफलता ले लिए इतनी ज़्यादा महेनत कैसे कर सकता है ? या यूँ कहिए कि अपनी महेनत से परिपूर्णता प्राप्त करने वाला व्यक्ति दैवीय शक्ति में अपनी आस्था कैसे टिका पाता है ?
उतर-इस वाक्यों से लेखक कहना चाहते है कि भगवान में इतना विश्वास रखने वाला व्यक्ति सफल होने के लिए कठोर महेनत कैसे कर सकता है या फिर ऐसे भी कह सकते है कि महेनत से सफल होने वाला व्यक्ति भगवान में इतनी श्रद्धा कैसे रख सकता है। लता जी इतनी सफल होने के बावजूद भी पूजाघर में अधिक समय बिताती थी ।

ब ) मुमकिन है कि उस टेलीफ़ोन को इस परिवार का आत्मविश्वास अच्छा लगता हो।
उतर-जब फोन बजना शुरू होता है ,तो बस बजता ही जाता है। बार-बार बजता। चाहे कोई फोन उठाये या नहीं ,पर जिसे लता जी की जरुरत है , वह किसी -न -किसी तरीके से संपर्क करेगा ही करेगा। यह आत्मविश्वास परिवार में सबके पास था और लेखक का कहना है कि शायद यह टेलीफ़ोन को अच्छा लगता था इसलिए उसको बार बार बजने में कोई दिक्कत नहीं थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *