Hindi Grammar “वाक्य के प्रकार (vakya ke prakar) वाक्य-विचार ” Types of sentence – Explanation

वाक्य के प्रकार (भेद)

(types of sentences)

  • अर्थ के आधार पर वाक्य के प्रकार (types of sentence based on their meaning)

1) विधानवाचक वाक्य (Affirmative sentence )
जिस वाक्य से क्रिया करने या होने का बोध हो , उसे विधानवाचक वाक्य कहते है।
जैसे :- रमा खेल रही है।

2) निषेधवाचक वाक्य (Negative sentence)
जिस वाक्य में क्रिया न करने या न होने का बोध हो , उसे निषेधवाचक वाक्य कहते है।
जैसे :-  बाहर जाना मना है।

3) प्रश्नवाचक वाक्य (Interrogative sentence)
जिस वाक्य में प्रश्न का बोध हो , उसे प्रश्नवाचक वाक्य कहते है।
जैसे :-  तुम क्या कर रहे हो ?

4) संदेहवाचक वाक्य (Skeptical sentence)
जिस वाक्य में संदेह या संभावना का बोध हो , उसे संदेहवाचक वाक्य कहते है।
जैसे :-  शायद आज बारिश होगी।

5) संकेतवाचक वाक्य (Indicative sentence)
जिस वाक्य में एक क्रिया दूसरी क्रिया पर निर्भर होने का संकेत हो , उसे संकेतवाचक वाक्य कहते है।
जैसे :-  यदि बारिश होती तो पानी की कमी न होती।

6) इच्छावाचक वाक्य (Optative sentence )
जिस वाक्य में इच्छा , शुभकामना , आशीर्वाद , आशा आदि के भाव प्रकट हों , उसे इच्छावाचक वाक्य कहते है।
जैसे :-  मुझे आज बाहर जाने का मन हो रहा है। (इच्छा-wish का भाव )
आप अच्छे अंको से पास हो। (शुभकामना-greetings का भाव )
सदा कल्याण हो। (आशीर्वाद-blessings का भाव )
अच्छे के लिए आशा ! (आशा-hope का भाव )

7) आज्ञावाचक वाक्य (Imperative sentence)
जिस वाक्य में आज्ञा , उपदेश , आदेश , अनुमति या प्रार्थना आदि के भाव प्रकट हो , उसे आज्ञावाचक वाक्य कहते है।
जैसे :-  तुम बाहर जाओ। (आज्ञा-order का भाव )
निरंतर कोशिश करने वाले कभी हारते नहीं। (उपदेश-advice का भाव )
तुम खेलने के लिए बाहर जा सकते हो। (अनुमति-permission का भाव )
हे प्रभु ! मेरा विश्वास कमज़ोर न हो। (प्रार्थना-prayer का भाव)

8) विस्मयादिवाचक वाक्य (Exclamatory sentence)
जिस वाक्य में विस्मय , हर्ष , क्रोध , घृणा आदि के भाव प्रकट हों , उसे विस्मयादिबोधक वाक्य कहते है।
जैसे :-  अरे ! तुम कितनी सुंदर लग रही हो। (विस्मय-amazement का भाव )
धन्य – धन्य ! तुम पहले नंबर से पास हो गए। (हर्ष-happiness का भाव )
बस करो ! तुम्हें कुछ समज में नहीं आता ? (क्रोध-anger का भाव )
छिः ! कितना गंदा पानी है। (घृणा-hate का भाव )

Exercise

  • नीचे दिए गए वाक्यों के अर्थ के आधार पर प्रकार लिखिए।
    1) आप सब इधर देखिए।
    2) यदि ट्रैफिक में न फँसा होता तो जल्दी आ जाता।
    3) तुम कौन हो ?
    4) धरती गोल है।
    5) यहाँ गाड़ी खड़ी करना मना है।
    6) शायद मैं कल दिल्ली जाऊँगा।
    7) हे प्रभु ! सबका कल्याण हो।
    8) अहा ! कितना सुंदर उपवन है।
    9) उपवन में पक्षी कलरव कर रहे है।
    10) ऐसी सर्दी में बाहर मत जाओ।
    11) पत्रोत्तर अवश्य देना।
    12) संभवत: इस साल वर्षा हो।
    13) वाह ! भारत ने विश्वकप जीत लिया।
    14) ईश्वर आपको लंबी उम्र दे।
    15) उसने झूठी गवाही न दी होती तो गोपी जेल से बाहर होता।
    16) चिड़िया चहचहा रही है।
    17) अनुभा चित्र नहीं बनाती है।
    18) मेरे लिए एक कप कोफ़ी लाना।
    19) क्या वह आगरा जाएगी ?
    20) आप दीर्धायु हो।
    21) हो सकता है कि उस साल अच्छी फसल पैदा हो।
    22) छि : , ऐसा घृणित कार्य तुमने किया है।
    23) उसने झूठी गवाही न दी होती तो उसे जेल न होती।
    24) बालक बगीचे में खेल रहा है।
    25) राम पुस्तक नहीं पढ़ता।
    26) कृपया फोन पर जवाब अवश्य देना।
    27) राम क्या कर रहा है ?
    28) आज अच्छी कमाई हो जाती।
    29) शायद महँगाई कुछ कम हो जाए।
  • रचना के आधार पर वाक्य प्रकार (types of sentences based on their formation)

1) सरल वाक्य (simple sentence)
जिस वाक्य में एक उद्देश्य और एक विधेय होता है , उसे सरल वाक्य कहते है।
जैसे :-  सोहन खेलता है। (‘सोहन’ उद्देश्य है और ‘खेलता है ‘ विधेय है। )

2) संयुक्त वाक्य (compound sentence)
जिस में दो या अधिक स्वतंत्र उपवाक्य होते है और वे ‘या’ , ‘किंतु’ , ‘और’ जैसे समुच्चबोधकों(conjunctions) से जुड़े होते हैं , उसे संयुक्त वाक्य कहते है।
जैसे :-  शिला बहादुर है और चतुर भी है। (‘शिला बहादुर है।’ , ‘चतुर भी है।’ दोनों स्वतंत्र उपवाक्य है। ‘और ‘ समुच्चयबोधक अव्यय है।)

3) मिश्र वाक्य (complex sentence)
जिस वाक्य में उपवाक्य मुख्य उपवाक्य पर आश्रित होता है और वे ‘कि ‘ , ‘ तथापि ‘ , ‘ इसलिए ‘ जैसे समुच्चयबोधकों(conjunctions) से जुड़े होते है , उसे मिश्र वाक्य कहते है।
जैसे :-   मैंने देखा कि पर्दे के पीछे कोई छिपा था। (‘मैंने देखा’ मुख्य उपवाक्य है और ‘पर्दे के पीछे कोई छिपा था।’ आश्रित उपवाक्य है।  ‘कि ‘ समुच्चयबोधक अव्यय है। )

सरल वाक्य संयुक्त वाक्य मिश्र वाक्य
ममता समझदार ही नहीं प्रतिभावान भी है। ममता समझदार और प्रतिभावान है। ममता प्रतिभावान है क्योंकि वह समझदार है।
रमन घर का काम ख़तम करके खेल रहा है। रमन ने घर का काम खतम किया और खेलने लगा। जैसे ही रमन ने घर का काम ख़तम किया वैसे ही खेलने गया।
गिलास नीचे गिरने से टूट गया। गिलास नीचे गिरा और टूट गया। जैस ही गिलास नीचे गिरा वैसे ही टूट गया।
कल १५ अगस्त होने के कारण स्कूल बंद रहेगा। कल १५ अगस्त है इसलिए स्कूल बंद रहेगा। कल स्कूल बंद रहेगा क्योंकि कल १५ अगस्त है।
व्यस्त होने के कारण नीतिका फिल्म देखने नहीं गई। नीतिका व्यस्त थी इसलिए फिल्म देखने नहीं गई। नीतिका फिल्म देखने नहीं गई क्योंकि वह व्यस्त थी।
मैंने एक सफेद पांडा देखा। मैंने एक पांडा देखा और वह सफेद था। मैंने एक पांडा देखा जो सफेद था।
शिक्षक के रहने तक कक्षा में सब छात्र शांत रहते हैं। शिक्षक कक्षा में है अतः सब छात्र शांत रहते है। जब तक शिक्षक कक्षा में रहते है सब छात्र शांत रहते है।
आत्मनिर्भर व्यक्ति सदैव सुखी रहते है। वे आत्मनिर्भर व्यक्ति है और सदैव सुखी रहते है। जो व्यक्ति आत्मनिर्भर होते हैं ,वे सदैव सुखी रहते है।
मेरा भाई पार्क में खेल रहा है। मेरा भाई पार्क में है और खेल रहा है। वह मेरा भाई है जो पार्क में खेल रहा है।
मैंने चाय के साथ नाश्ता किया। मैंने चाय पी और नाश्ता किया। जब मैंने नाश्ता किया तब मैंने चाय भी पी।
गार्ड के सीटी देने पर ट्रैन चल दी। गार्ड ने सीटी दी इसलिए ट्रेन चल दी। ट्रेन चल दी क्योंकि गार्ड ने सीटी दी।
संतोषी व्यक्ति सदा सुखी रहते है। वे संतोषी व्यक्ति है और सदा सुखी रहते है। जो व्यक्ति संतोषी होते है ,वे सदा सुखी रहते है।
मैंने रसोई में जाकर बिल्ली को सारा दूध पीते देखा। मैं रसोई में गया और देखा कि बिल्ली सारा दूध पी गई है। जब मैं रसोई में गया तब देखा कि बिल्ली सारा दूध पी गई है।
नवीन का स्वास्थ्य ठीक नहीं होने के कारण वह नहीं आया। नवीन का स्वास्थ्य ठीक नहीं है इसलिए वह नहीं आया। नवीन नहीं आ पाया क्योंकि उसका स्वास्थ्य ठीक नहीं है।
आप नेताजी से मिलने के लिए द्वार पर प्रतीक्षा करें। आप नेताजी से मिलना चाहते है इसलिए द्वार पर प्रतीक्षा करे। यदि आप नेताजी से मिलना चाहते है तो द्वार पर प्रतीक्षा करें।
पाँच आबो के समूह को पंजाब कहते है। यहाँ पॉँच आबो का समूह है इसलिए इसे पंजाब कहते है। पंजाब उस प्रदेश को कहते हैं जहाँ पाँच आबोका समूह है।
दीपिका के पहुँचने से पहले ट्रैन जा चुकी थी। दीपिका पहुंची लेकिन ट्रेन जा चुकी थी। जब तक दीपिका पहुँची ,तब तक ट्रेन जा चुकी थी।
वर्षा बंद होने के बाद आकाश में इंद्रधनुष निकल आया। वर्षा बंद हुई और आकाश में इन्द्रधनुष निकल आया। जैसे ही वर्षा बंद हुई वैसे ही आकाश में इंद्रधनुष निकल आया।
मेरी भेंट एक बहुत हँसमुख व्यक्ति से हुई। मेरी भेट एक व्यक्ति से हुई और वह बहुत हँसमुख था। मेरी भेट एक व्यक्ति से हुई जो बहुत हंसमुख था।
इस बहादुर लड़के ने चोरों को पकड़ने में पुलिस की सहायता की थी। यह लड़का बहादुर है और उसने चोरों को पकड़ने में पुलिस की मदद की थी। वह लड़के ने चोरों को पकड़ने में पुलिस की सहायता की थी जो बहादुर था।
किसान को दिन-रात मेहनत करने के बावजूद दो वक्त की रोटी नहीं मिल पाती। किसान दिन-रात मेहनत करता है लेकिन दो वक्त की रोटी नहीं मिल पाती। जब किसान दिन-रात मेहनत करता है तब भी दो वक्त की रोटी नहीं मिल पाती।
वह सुंदर ही नहीं समझदार भी है। वह सुंदर और समझदार है। वह सुन्दर है ,जो समझदार भी है।
सूर्यास्त होने पर पक्षीगण अपने घोंसलों की ओर प्रस्थान करने लगे। सूर्यास्त हुआ और पक्षीगण अपने घोंसलों की ओर प्रस्थान करने लगे। पक्षीगण अपने घोंसलों की ओर प्रस्थान करने लगे क्योंकि सूर्यास्त हो गया।
माँ बाज़ार से सब्ज़ी खरीद कर लाई। माँ बाज़ार गई और सब्जी खरीदकर लाई। माँ बाज़ार गई क्योंकि सब्ज़ी खरीदनी थी।
दादाजी खाना खाकर सोने गए। दादाजी ने खाना खाया और सोने गए। जब दादाजी ने खाना खा लिया तब वह सोने चले गए।
वर्षा शुरू होने पर सब अंदर चले गए। वर्षा शुरू हुई इसलिए सब अंदर चले गए। सब अंदर चले गए क्योंकि वर्षा शुरू हो गई।
मोहन ने छत पर पतंग उड़ाई। मोहन छत पर गया और पतंग उड़ाई। मोहन छत पर गया क्योंकि उसको पतंग उड़ानी थी।
झूठ बोलने वाले लोग मुझे पसंद नहीं हैं। लोग झूठ बोलते है इसलिए मुझे पसंद नहीं। जो लोग जूठ बोलते है वो मुझे पसंद नहीं।
पिकनिक पर जाने के लिए तैयार हो जाओ। पिकनिक पर जाना है इसलिए तैयार हो जाओ। तैयार हो जाओ क्योंकि पिकनिक पर जाना है।
हमारे घर से बाहर निकलते ही मूसलधार वर्षा होने लगी। हम घर से बाहर निकले लेकिन वर्षा होने लगी। जैसे ही हम घर से बाहर निकले वैसे ही मूसलधार वर्षा होने लगी।
कई बार मुझे डाँटने का अवसर मिलने पर भी बड़े भाई साहब चुप रहे। कई बार मुझे डाँटने का अवसर मिला लेकिन बड़े भाई साहब चुप रहे। जब कई बार मुझे डाँटने का अवसर मिला तब भी बड़े भाई साहब चुप रहे।
कई सालों से बड़े-बड़े बिल्डर समंदर को पीछे धकेल कर उसकी जमीन को हथिया रहे थे। कई सालों से बड़े-बड़े बिल्डर समंदर को पीछे धकेला और उसकी जमीन को हथिया लिया । कई सालों से बड़े-बड़े बिल्डर समंदर को पीछे धकेला क्योंकि वे उसकी जमीन को हथियाना चाहते थे ।
आपका कहना मैंने सुन लिया। आपने कहा और मैंने सुन लिया। आपने जो कहा ,मैंने सुन लिया।

 

9 Comments on “Hindi Grammar “वाक्य के प्रकार (vakya ke prakar) वाक्य-विचार ” Types of sentence – Explanation”

  1. बहुत सुंदर ढंग से विषय वस्तुओं को उपस्थापित किया गया है । धन्यवाद सर् जी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *