शब्द-भेद (अर्थ के आधार पर)

शब्द-भेद (अर्थ के आधार पर)

अभ्यास

1 . एकार्थक प्रतीत होने वाले शब्दों व समरूप-भिन्नार्थक शब्दों में क्या अंतर है ? उदाहरण सहित स्पष्ट कीजिए।
एकार्थक प्रतीत होने वाले शब्दों
समरूप-भिन्नार्थक शब्दों
शब्दों के अर्थ एक जैसे प्रतीत होते है पर उनमें सूक्ष्म अंतर होता है। शब्दों के अर्थ भिन्न होते है।
शब्दों भिन्न होते है। उनकी रूप-रचना समान नहीं होती। शब्दों की रूप-रचना सुनने-पढ़ने में एक जैसी ही होती है।
जैसे – भ्रमण (घूमना-फिरना) , पर्यटन (विस्तृत भू-भाग पर कि जाने वाली यात्रा ) जैसे – हंस (एक पक्षी) , हँस (हँसना)

 

2 . पर्यायवाची व अनेकार्थी शब्दों में क्या अंतर है ? उदाहरण सहित स्पष्ट कीजिए।

पर्यायवाची शब्दों में अनेक अर्थ एक शब्द देता है। जैसे : राजा – नरेश ,भूप , महीपति। यहाँ नरेश ,भूप , महीपति सबका अर्थ राजा ही होता है।
अनेकार्थी शब्दों में एक शब्द अनेक अर्थ देता है। जैसे : गुरु – बड़ा , शिक्षक , पूज्य। यहाँ बड़ा , शिक्षक , पूज्य सब गुरु शब्द के भिन्न-भिन्न अर्थ है।

3 . दिए गए रिक्त स्थानों की पूर्ति रंगीन शब्दों के उचित विलोम शब्द से कीजिए –

( क ) इस गुप्त रहस्य को प्रकट करने से पहले हमें सोच-विचार कर लेना चाहिए।
( ख ) हमें सदैव सही का समर्थन और गलत का असमर्थन करना चाहिए ।
( ग ) परीक्षा के लिए यदि अभी से मेहनत नहीं करोगे तो उत्तीर्ण होने की जगह अनुतीर्ण हो जाओगे।
( घ ) आलसी बने रहोगे तो अपना लक्ष्य कैसे पाओगे ? इसलिए उद्यमी बनो।
( ङ ) एकलव्य एक सच्चा शिष्य था । उसने गुरु दक्षिणा में अपने गुरु द्रोण को अपना अगूंठा तक काटकर दे दिया था।

4 . दिए गए रिक्त स्थानों की पूर्ति रंगीन शब्दों के पर्यायवाची शब्द से कीजिए –

( क ) वीणा – वादिनी को सरस्वती भी कहते हैं ।
( ख ) राम अपने माता – पिता का इकलौता लड़का है और उन्हें अपने होनहार बेटे पर गर्व है ।
( ग ) मधुऋतु में वसंत पंचमी मनाई जाती है ।

5 . रंगीन अनेकार्थक शब्दों के अर्थ कोष्ठक में लिखिए –
( क ) मेरे प्रश्न का तुमने कोई उत्तर नहीं दिया । जवाब
हिमालय उत्तर में स्थित है । दिशा
( ख ) पेड़ पर हरि बैठा है । बंदर
प्रहलाद सच्चा हरि भक्त था। भगवान
( ग ) कल रात निशाचर पड़ोस के वर्मा जी के घर में घुस कर उनका लाखों का सामान लूट ले गया । चोर
कल रात हमें एक निशाचर की हू – हू की ध्वनि सुनाई दी । पक्षी (उल्लू)
( घ ) भारत को गुलाम बनाने के लिए अंग्रेजों ने ‘ भेद डालो राज करो ‘ की नीति अपनाई । विभाजन
राहुल के अच्छे स्वास्थ्य का भेद है प्रतिदिन व्यायाम करना और संतुलित आहार ग्रहण करना । रहस्य
( ङ ) गुरु को प्रणाम करें । शिक्षक
गुरु हथौड़े के प्रहार से शत्रु के सिर के टुकड़े हो गए । बड़ा
6 . निम्नलिखित वाक्यों को ध्यानपूर्वक पढिए और रंगीन वाक्यांशों के स्थान पर एक शब्द का प्रयोग करके खाली स्थान में लिखिए –
( क ) राहुल को अच्छी विज्ञापन एजेंसी में नौकरी मिल गई है और अब वह अपने पैरों पर खड़ा हो गया है । स्वावलंबी
( ख ) वृक्ष हमें फल , फूल , छाया आदि देते हैं । कई वृक्ष जैसे नीम आदि के पत्तों से तो हमे सर्दी – खाँसी जैसे विभिन्न रोगों के इलाज में भी मदद मिलती है । सही अर्थ में वृक्ष दूसरों का भला करने वाले होते हैं । परोपकारी
( ग ) श्याम हर बात का बढ़ा – चढ़ाकर वर्णन करता है । अतिशयोक्ति
( घ ) किसान अपने खेतों में बीज बोते हैं . हल जोतते हैं फसल उगाते हैं और उस फसल को बाज़ार में बेचकर धन कमाते हैं । इस प्रकार कठिन श्रम करके वे अपना और अपने परिवार का जीवन निर्वाह करते हैं । श्रमजीवी
( ङ ) आज भी गाँवों में अधिकांश जन पढ़े – लिखे नहीं हैं । अनपढ़
( च ) सिद्धांत एक होनहार बालक है । परीक्षा में अच्छे अंक पाने के साथ – साथ वह अपने ज्ञानवर्धन के लिए अच्छी पुस्तकों के अध्ययन में लगा रहता है । अध्ययनशील
7 . निम्नलिखित शब्दों का इस प्रकार वाक्यों में प्रयोग कीजिए कि उनका अर्थ स्पष्ट हो जाए –

( क ) तरणि – तरणि का उदय पूर्व दिशा में होता है।
( ख ) तरणी – हम तरणी में बैठकर नदी पार करेंगे।
( ग ) वसन – मैंने आज लाल रंग के वसन पहने है।
( घ ) व्यसन – तम्बाकु का व्यसन नहीं करना चाहिए।
( ङ ) द्रव – पानी एक द्रव पदार्थ है।
( च ) द्रव्य – अमीरों के पास बहुत सारा द्रव्य होता है।
( छ ) कुल – राम भगवान रघु के कुल है।
( ज ) कूल – मुझे सागर के कूल पर बैठना अच्छा लगता है।

8 . रिक्त स्थानों की पूर्ति उचित शब्दों द्वारा कीजिए –

पवन, घटा, नीर, पावन, घंटा, नीड़
( क ) शीतल व सुगंधित पवन बह रही है ।
( ख ) पिताजी पावन धाम बद्रीनाथ की यात्रा पर गए हैं ।
( ग ) आकाश में काली घटा छाई है ।
( घ ) घंटा समय की एक इकाई है ।
( ङ ) राजहंस नीर क्षीर विवेक में निपुण होता है ।
( च ) संध्या होते ही विहग – वृंद विश्राम हेतु अपने – अपने नीड की तरफ चल पड़ते हैं ।

9 . निम्नलिखित कहानी पढ़िए और दी गई शब्द – तालिका पूरी कीजिए –

 

 

एक बार एक गुरु ने अपने सभी शिष्यों से अनुरोध किया कि व आते समय अपने साथ एक थैली में बड़े – बड़े आलू साथ आलुओं पर उस व्यक्ति का नाम लिखा होना चाहिए ईर्ष्या का बोझ ष्या से अनुरोध किया कि वे कल प्रवचन में म बड़े – बड़े आलू साथ लेकर आएँ । उन यक्ति का नाम लिखा होना चाहिए जिनसे वे ईर्ष्या करते है । जितने व्यक्तियों से ईर्ष्या करता है , वह उतने आल लेकर आए । अगले ससभा शिष्य आलू लेकर आए । किसी के पास चार आलू थे तो किसा छ । गुरु ने कहा कि अगले सात दिनों तक ये आल वे अपने साथ रखें । हा भा जाए , खाते – पीते , सोते – जागते . ये आल सदैव साथ रखने चाहिए । शिष्यों को कुछ समझ में नहीं आया , लेकिन वे क्या करते गुरु का आदेश था । दो – चार दिनों के बाद ही शिष्य आलओं की दर्गध से परेशान हो गए । जैसे – तैसे उन्होंने सात दिन बिताए और गुरु के पास पहँचे । गुरु ने कहा , यह सब मैंने आपको शिक्षा देने के लिए किया था । जब मात्र सात दिनों में आपको ये आल बोझ लगने लगे तब सोचिए कि आप जिन व्यक्तियों से ईष्या करत है , उनका कितना बोझ आपके मन पर रहता होगा । यह ईर्ष्या आपके मन पर अनावश्यक बोझ डालती है , जिसके कारण आपके मन में भी दुर्गध भर जाती है , ठीक इन आलुओं की तरह । इसलिए अपने मन से गलत भावनाओं को निकाल दो , यदि किसी से प्यार नहीं कर सकते तो कम – से – कम घृणा तो मत करो । इससे आपका मन स्वच्छ और हल्का रहेगा । यह सुनकर सभी शिष्यों ने आलुओं को फेंकने के साथ – साथ अपने मन से ईर्ष्या को भी निकाल फेंका । 28 जून 2010 , नवभारत टाइम्स
संकलन – लखविंदर सिंह

शब्द – तालिका
विलोम शब्द लिखें । कोई दो पर्यायवाची लिखें । चार अनेकार्थी शब्द लिखें ।
सुगंध – दुर्गंध प्यार- स्नेह,प्रेम गुरु – शिक्षक,बड़ा,एक ग्रह,पूज्य
मलिन – स्वच्छ अनुरोध – निवेदन,अनुग्रह
भारी – हलका
शिष्य – गुरु
आवश्यक – अनावश्यक

 

एकार्थक प्रतीत होने वाले शब्दों के अर्थ लिखें । समरूप – भिन्नार्थक शब्दों के अर्थ लिखें । अनेक के लिए एक शब्द लिखें ।
ईर्ष्या- दूसरे की सफलता पर जलना अनुरोध – निवेदन ईर्ष्या करने वाला – ईर्ष्यालु
द्वेष- मन में मेल या दुश्मनी रखना अवरोध – बाधा
इच्छा- किसी वस्तु को पाने की स्वाभाविक चाह।
अभिलाषा – मन की चाह

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *