समानार्थक प्रतीत होने वाले भिन्नार्थक शब्द

समानार्थक प्रतीत होने वाले भिन्नार्थक शब्द

जिनमें सूक्ष्म(minor) अर्थ – भेद(difference) हैं ।

1. अस्त्र – जिन हथियारों को फेंककर चलाया जाता है । (e.g. missile)
शस्त्र – जिनको हाथ में पकड़कर चलाया जाता है । (e.g. sword)

2. अधिक – आवश्यकता से अधिक । (more than needs)
पर्याप्त – आवश्यकता के अनुसार । (sufficient)

3. अमूल्य – जिसका कोई मूल्य न हो। (priceless)
बहुमूल्य – अत्यधिक कीमत वाली , साधारण से अधिक मूल्य वाली वस्तु । (precious)

4. अद्वितीय – जिसके समान कोई दूसरा न हो । (unique)
अनुपम – जिसकी किसी से समानता न की जा सके । (incomparable)

5. अनुसंधान – अज्ञात(unknown) तथ्यों(truth) को प्रकट करना । (investigation)
आविष्कार – नई वस्तु अथवा मशीन का निर्माण । (invention)
खोज / अन्वेषण – किसी छिपी हुई वस्तु को ढूँढना ।

6. अज्ञ – जिसे कुछ भी ज्ञान न हो , मूर्ख । (foolish)
अनभिज्ञ – जिसे किसी विशेष घटना या कार्य की जानकारी न हो । (unaware)

7. अध्यक्ष – किसी संस्था(institution) का स्थायी(permanent) प्रधान ।
सभापति – किसी कार्यक्रम या सभा का प्रधान ।

8. अनिवार्य – जिसके बिना कार्य संभव न हो , जिसका कोई विकल्प न हो । (compulsary)
आवश्यक – जरूरी । (necessary)

9. अनुरूप – उपयुक्तता का भाव । (suited)
अनुकूल – किसी पक्ष के लिए लाभकारी होना । (favorable)

10. अनुग्रह – प्रसन्नतापूर्वक कृपा करना । (grace)
अनुकंपा – दया । (हमदर्दी)

11. अनवन – मन – मुटाव । (hate के कारण किसी के प्रति होने वाली बुरी भावना)
खटपट – छोटा – मोटा झगड़ा ।

12. अनुरोध – आग्रहपूर्वक(जोर देकर /insistently) विनती करना ।
प्रार्थना – विनयपूर्वक(politely) निवेदन करना ।

13. अपराध – कानून या नियम के विरुद्ध , जिसका विधिवत् दंड होता है । (crime like murder)
पाप – अनैतिक(immoral) काम , जो सामान्यतः अनुचित या निंदा के योग्य माना जाता है , कानून में उसका दंड नहीं भी हो सकता । (e.g. दूसरों को कष्ट देना )

14. अनुभव – किसी कार्य को करने या व्यवहार से प्राप्त ज्ञान , तजुर्बा । (experience)
अनुभूति – चिंतन या अंतर्मन का अनुभव , इसमें संवेदना का भाव प्रधान रहता है , अहसास । (realization)

15. अभिवादन – किसी को प्रणाम , नमस्कार करना । (greetings)
अभिनंदन – किसी का प्रशंसापूर्वक और विधिवत् सम्मान । (congratulations)
स्वागत – किसी के आगमन पर लोक मर्यादा के अनुसार सम्मान प्रदान करना ,जिसमें आतिथ्य(hospitality) का भाव रहता है । (welcome)

16. अनुनय – कृपा की याचना(मांग ) जिसमें कुछ गिड़गिड़ाने (plead) का भाव निहित हो ।
विनय – विनम्र (modesty) प्रार्थना ।

17. अंतःकरण – मन अथवा हृदय ।
आत्मा – चेतना , जीवन – शक्ति । (soul)

18. अभिमान – अपनी संपत्ति या श्रेष्ठता के कारण स्वयं को बड़ा समझना । (pride)
अहंकार – झूठा घमंड । (ego)

19. अवस्था – वय , उम्र , इस शब्द का प्रयोग ‘ दशा ‘ के अर्थ में भी होता है । (state)
आयु – संपूर्ण जीवन – काल । (life period)

20. आधि – मानसिक (mentally) कष्ट ।
व्याधि – शारीरिक(physical) कष्ट ।

21. आवेदन – निर्धारित(determined) और वांछित(desired) योग्यताओं के आधार पर किसी पद(post) या कार्य के लिए विचारार्थ भेजा गया पत्र । (application)
अनुमति – माँगे जाने पर अपने से छोटों या अधीनस्थ(inferior) को किसी कार्य के लिए सहमति देना । (permission)
निवेदन – नम्रतापूर्वक(modesty) अपने विचार प्रकट करना । (appeal)

22. आज्ञा – बड़ों द्वारा छोटों को कुछ कहना । (elder to younger)
आदेश – अधिकारी द्वारा अधीनस्थों को निर्देश देना । (boss to employee)

23. इच्छा – किसी वस्तु को पाने की स्वाभाविक चाह । (desire)
लालसा – चाह की तीव्रता । (passion)

24. उपयोग – लाभकारी कार्य हेतु प्रयोग करना । (use)
उपभोग – खाना । (consumption)
प्रयोग – किसी वस्तु को सामान्य रूप से व्यवहार में लाना । (experiment)

25. उद्योग – परिश्रम , मेहनत । (effort)
प्रयास – कोशिश । (try)

26. उपहास – अपमान के लिए हँसी उड़ाना । (ridicule/taunt)
परिहास – मनोरंजन के लिए , हँसी – विनोद करना । (joke/funniment)

27. कष्ट – सभी प्रकार के दुःख। (all type of pain)
क्लेश – मानसिक दुःख । (mental stress)

28. कृपा – अपने से छोटों को सुखी करने की भावना । (help- elder to younger)
दया – दुखियों की सहायता करने की भावना । (help – rich to poor)

29. कार्य – सामान्य आवश्यक(essential) कार्य । (work)
कर्तव्य – करने योग्य कार्यों को करने की जिम्मेदारी । (duty)

30. खेद – गलती करने पर दुःख प्रकट करना । (sorrow)
शोक – किसी की मृत्यु पर दुःख प्रकट करना । (grief)

31. ग्लानि – किए गए कुकर्म पर पछतावा ।
लज्जा – अनुचित कार्य पर संकोच होना ।
संकोच – किसी कार्य को करने में हिचकिचाना ।

32. तंद्रा – ऊँघना ।
निद्रा – सोना ।

33. गर्व – किसी गुण या सफलता आदि पर उचित महत्ता । (pride)
गौरव – बड़प्पन , महानता । (sublimity)

34. दुर्गम – जहाँ पहुँचना कठिन हो ।
अगम – जहाँ पहुँचना संभव न हो ।

35. पत्नी – किसी की विवाहता स्त्री । (married lady)
स्त्री – कोई भी नारी । (lady)
महिला – कुलीन घर की स्त्री (woman)

36. पुत्र – अपना बेटा । (son)
बालक – कोई भी बच्चा । (child)

37. प्रेम – लगाव के कारण उत्पन्न अपनापन । (affection)
परिणय – विवाह । (marriage)
प्रणय – पति – पत्नी अथवा प्रेमी – प्रेमिकाओं का आपसी लगाव । (love/romance)

38. न्याय – सच – झूठ का सही – सही फैसला । (justice)
निर्णय – फैसला , चाहे वह सही हो या गलत । (decision)

39. निंदा – बुराई , पीठ पीछे बुराई करना । (dispraise)
आलोचना – गुण – दोष की समीक्षा करना । (criticism/review)

40. पुरस्कार – किसी भी अच्छे कार्य हेतु दिया गया इनाम ।
पारितोषिक – किसी प्रतियोगिता अथवा परीक्षा आदि में प्रदर्शित श्रेष्ठता पर दिया जाने वाला इनाम ।

41 , भ्रम – धोखा , एक वस्तु में दूसरी का असत्य निश्चय , गलतफहमी । (misunderstanding)
संदेह – शक , अनिश्चय की स्थिति । (doubt)

42. वात्सल्य – पुत्र आदि छोटों के प्रति प्यार । (love to younger ones)
स्नेह – छोटों के प्रति शुभ चाहने की भावना । (love with best wishes)

43. लोभ – कुछ पाने की इच्छा से अभिभूत(overwhlemed) । (greed)
तृष्णा – अधिकाधिक (more and more) पाने की तीव्र लालसा । (craving)

44.मुनि – धर्म तथा तत्व का विचारक , मनन करने वाला ‘ स्व ‘ से ऊपर उठी आत्मा ।
ऋषि – ब्रह्मज्ञानी ।

45. मत – एक विचार को मानने वाला समूह । (e.g terrorist)
धर्म – कर्तव्य तथा अकर्तव्य का भेद बताने वाले नियम । (e.g. हिन्दु )
संप्रदाय – किसी धार्मिक मत को मानने वाला समूह । (e.g. वैष्णव )

46. विवेक – अच्छाई और बुराई की पहचान । (तमीज़ /बुद्धिमानी )
ज्ञान – किसी विषय या वस्तु की जानकारी । (knowledge)

47. श्रम – केवल शारीरिक शक्ति से काम करना । (labour)
परिश्रम – शरीर और मन से कोई काम करना । (effort)

48. अंशदान – किसी कार्य में थोड़ी सहायता ।
योगदान – पूरा साथ ।

49. विलाप – शोक या वियोग(seperation) में रुदन करना ।
प्रलाप – मानसिक विकार(disorder) के कारण पागलों के समान बोलना ( बकना ) ।

50. स्पर्धा – कुछ पाने या करने की स्वाभाविक होड़ । (competition)
द्वेष – मन में मैल या दुश्मनी रखना । (hatred)

51. सुख – लाभकारी स्थिति में प्रसन्न होना । (happy)
आनंद – दुःख और सुख से परे होना । (joy)

52. संतोष – जो मिले उसी में खुश रहना ।
तृप्ति – इच्छा की पूर्ति होना ।

53. कवि – केवल कविता लिखने वाला । (poet)
लेखक – किसी विषय पर कुछ भी लिखने वाला । (writer)

54. तर्क – एक व्यक्ति द्वारा अपने मत की पुष्टि के लिए कारण और प्रमाण प्रस्तुत करना । (reasoning)
वितर्क – बहस , अनेक व्यक्तियों द्वारा अपने – अपने तर्क देना । (argument)

55. कथा – कहानी , जिसमें एक ही व्यक्ति कुछ कहता है ।
वार्ता – बातचीत , चर्चा , जिसमें सभी लोगों को अपनी बात कहने का अवसर रहता है ।

56. प्रणाम – गुरुजनों के लिए । (for teachers)
नमस्ते – छोटे – बड़े सभी के लिए । (for all)
अभिवादन – आदरपूर्वक हाथ जोड़कर , खड़े होकर स्वागत करना ।
नमस्कार – समान अवस्था वाले के लिए । (for equals)

37. ग्रंथ – बड़ी तथा गंभीर विषय वाली पुस्तक । (e.g. महाभारत )
पुस्तक – कोई भी सामान्य प्रकाशित पुस्तक । (e.g. the wings of fire )

58. आदरणीय – अपने से बड़ों के प्रति सम्मानसूचक शब्द । (for elders)
पूजनीय – गुरु , माता , पिता या महापुरुषों के प्रति सम्मानसूचक शब्द । (for teachers/parents/great people)

59. अर्चना – धूप , दीप आदि से पूजा करना ।
पूजा – बिना किसी सामग्री के पूजा करते हैं ।

60. ईर्ष्या – दूसरे की सफलता पर जलन । (jealous)
द्वेष – किसी कारणवश किसी से शत्रुता या घृणा करना । (hatred)
स्पर्धा – दूसरे के गुणों जैसा बनने की कामना से प्रेरित उत्साह । (cometition)

61. उत्साह – काम करने की तीव्र उमंग । (excitement)
साहस – साधन न होते हुए भी काम करने की इच्छा होना । (courage)

62. करुणा – दूसरों के दुःख को दूर करने की आकुलता(hurry) ।
दया – दूसरों के दुःख को दूर करने की स्वाभाविक चेष्टा(इच्छा ) ।
कृपा – छोटों के कष्ट दूर करने या सहायता की चेष्टा(इच्छा ) ।

63. आशंका – भविष्य में अमंगल(बुरा ) का भ्रम ।
भय – किसी भी अनिष्ट का डर । (fear)

64. छाया – वृक्ष , भवन आदि वस्तुओं की । (shadow of things/trees)
परछाई – किसी व्यक्ति की । (shadow of people)

56. प्रलाप – मानसिक विकार(disorder) से बोलना अथवा बकवास करना ।
विलाप – शोक अथवा वियोग (seperation) में रोना ।

66. भ्रांति – अंधेरे में रस्सी को साँप समझ लेना भ्रांति है ( भ्रम के कारण ) ।
संशय – वास्तविकता का निश्चय न होना ( अँधेरे में रस्सी को देखकर सोचना कि यह साँप है अथवा रस्सी ( संशय के कारण ) ।
संदेह – वास्तविकता का निश्चय न होना ।

67. सम्राट – राजाओं का राजा ।
राजा – साधारण भूपति(king) ।

68. श्रद्धा – ईश्वर , धर्म अथवा बड़े लोगों के प्रति पूज्य भाव । (faith)
भक्ति – ईश्वर , धर्म अथवा बड़े लोगों के प्रति उत्पन्न निष्ठा के भाव । (devotion)

69. स्वतंत्रता – स्वतंत्रता का प्रयोग प्रायः व्यक्तियों के लिए होता है ।
स्वाधीनता – स्वाधीनता का प्रयोग देश के लिए होता है ।

70. वध – शत्रु(enemy) आदि के प्राण लेना ।
हत्या – निर्दोष(innocence) के प्राण लेना ।

71. निधन – महान तथा लोकप्रिय(famous) व्यक्तियों की मृत्यु ।
मृत्यु – सामान्य मौत ।

72. प्रेम – मनुष्य का मनुष्य के प्रति प्रेम का भाव ।
स्नेह – छोटों के प्रति प्रेम का भाव ।
वात्सल्य – माँ का बच्चे के प्रति प्रेम का भाव ।

73. समय – साधारण अर्थ में प्रयुक्त(used) । (time)
युग – समय विशेष की अवधि । (period)

74. गहरा – झील , तालाब , कुआँ आदि । (deep)
घना – जंगल , अंधेरा आदि । (dense)

75. सभ्यता – रहन – सहन , व्यवहार आदि । (behavior)
संस्कृति – रीति – रिवाज आदि । (culture)

76. उपहार – बराबर वालों को ।
भेंट – बड़ों को ।

77. सहयोग – दोनों पक्षों की ओर से एक दूसरे पक्षों की सहायता ।
सहायता – एक पक्ष की ओर से दूसरे पक्ष का लाभ कार्य ।

78.अनुरोध – बराबर वालों से निवेदन करना
प्रार्थना – ईश्वर / अपने से बड़ों से निवेदन करना

79.अभ्यास – किसी कार्य के लिए बार – बार प्रयास करना (practice)
परिश्रम – मेहनत (effort)

80.अपयश – बदनामी (ill-fame)
कलंक – चरित्र(character) पर दोष लगना

81.इच्छा – साधारण इच्छा
अभिलाषा – किसी विशेष वस्तु को पाने की इच्छा

82.आतंक – खौफ़ (terror)
भय – किसी अनिष्ट का डर (fear)

83.परीक्षक – परीक्षा लेने वाला (examiner)
निरीक्षक – देखभाल करने वाला  (supervisor)

84.उपयोग – किसी वस्तु का उचित ढंग से प्रयोग (use)
प्रयोग – किसी वस्तु का सामान्य रूप से प्रयोग (experiment)

85.समीर – शीतल और मंद – मंद बहने वाली हवा (breeze)
पवन – कभी तेज़ कभी धीरे चलने वाली हवा (wind)

86.व्यय – सामान्य खर्च
अपव्यय – फ़िजूल खर्च

87.दुख – किसी प्रिय व्यक्ति / वस्तु के खोने का दुख
खेद – आत्मग्लानि / अपनी गलती पर दुखी होना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *