Class-7 Ch-6 अविकारी शब्द

अविकारी शब्द

अभ्यास

निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए ।

1. अविकारी शब्द किन्हें कहते हैं ? उनके प्रकारों के नाम बताइए ।
उत्तर – अविकारी शब्द वे शब्द है ,जिनके रूप में लिंग,वचन ,काल आदि किसी भी कारण से कोई परिवर्तन नहीं आता। वे सदा अपने मूल रूप में ही प्रयुक्त होते हैं। उनके प्रकार : क्रिया विशेषण ,संबंधबोधक ,समुच्चयबोधक ,विस्मयादिबोधक ,अवधारक

2. क्रिया – विशेषण किसे कहते हैं ? उसके भेदों के नाम उदाहरणसहित बताइए ।
उत्तर – वे अव्यय शब्द , जो क्रिया की विशेषता बताते हो , “क्रिया विशेषण ” कहलाते है।
इनके चार भेद है :
१) रीतिवाचक – जैसे : रवि धीरे-धीरे चलने लगा।
२) स्थानवाचक – जैसे : रवि बाहर गया।
३) कालवाचक – जैसे : रवि सुबह घर से निकला।
४) परिमाणवाचक – जैसे : मुझे काफ़ी खरीदारी करनी है।
धीरे-धीरे , बाहर ,सुबह , काफ़ी ये सब क्रिया-विशेषण है।

3. अवधारक शब्द किसे कहते हैं ? स्पष्ट कीजिए ।
उत्तर – किसी भी बात पर अतिरिक्त बल देने के लिए जिन शब्दों का प्रयोग किया जाता है ,वे ‘अवधारक’ कहे जाते है। जैसे : “पापा ने मात्र अंगूर ही खरीदे। ” इस वाक्य में “मात्र ” शब्द बात पर बल देने के लिए प्रयोग किया गया है , अतः इन्हे अवधारक कहा जाएगा।

4. नीचे दिए संबंधबोधक शब्दों से वाक्य बनाकर लिखिए –
के सामने : घर के सामने एक पेड़ है।
के रहित : कर्म के रहित वाक्य को अकर्मक वाक्य कहते है।
के समान : मेरा भाई शेर के समान बहादुर है।
के साथ : मैं अपने दोस्त के साथ घूमने जाउगा।
के विपरीत : राजा के विपरीत जाना प्रजा के लिए ठीक नहीं है।

5. नीचे दिए वाक्यों में समुच्चयबोधक शब्द भरिए –

( क ) वह परोपकारी तो है पर अभिमानी भी है ।
( ख ) माधव को टेनिस खेलना पसंद है और फुटबॉल भी।
( ग ) जल्दी चलो ताकि समय से पहुँच जाओ ।
( घ ) मीनू और नीता दोनों सुंदर हैं ।
( ङ ) झूठ बोलना छोड़ दो वरना बुरे फसोगे ।

6. नीचे दिए विस्मयादिबोधक शब्दों से वाक्य बनाकर लिखिए – वाह , अरे , हाय , ओह , क्या
वाह – वाह! बहुत अच्छे गुण लाए हो ।
अरेअरे! आप कौन हो
हाय – हाय ! मुझे आने में देर हो गई।
ओह – ओह ! आज सूरज कैसा तप रहा है।
क्या – क्या ! वह चला गया ?

7. समुच्चयबोधक या योजक शब्दों के भेदों को उदाहरणसहित लिखिए ।
उत्तर – समुच्चयबोधक शब्दों के दो भेद है :
1 ) समानाधिकरण समुच्चयबोधक : जैसे – लेकिन ,पर , तथा
2 ) व्याधिकरण समुच्चयबोधक : जैसे – ताकि ,तथापि

8. वर्ग में लिखे क्रिया – विशेषण शब्दों को छाँटकर सही शीर्षक के नीचे लिखिए ।
धीरे से ,तेज़ी से , पर्याप्त, भीतर, लगातार, इधर, सदैव, लगभग

रीतिवाचक : धीरे से ,तेज़ी से
स्थानवाचक : भीतर,इधर
परिमाणवाचक : पर्याप्त,लगभग
कालवाचक : सदैव,लगातार

9. निम्नलिखित वाक्यों में से क्रिया – विशेषण छाँटकर उनके नाम भी बताइए –

( क ) धीरे – धीरे अंधेरा बढ़ने लगा था ।
उत्तर – क्रिया – विशेषण : धीरे – धीरे (रीतिवाचक क्रिया – विशेषण)
( ख ) थोड़ा खा लो ।
उत्तर – क्रिया – विशेषण : थोड़ा (परिमाणवाचक क्रिया – विशेषण)
( ग ) कल तक वह अवश्य आ जाएगा ।
उत्तर – क्रिया – विशेषण : कल तक (कालवाचक क्रिया – विशेषण)
( घ ) भीतर चलो , वहाँ पढ़ेंगे।
उत्तर – क्रिया – विशेषण : भीतर (स्थानवाचक क्रिया – विशेषण )

10 . निपात का दूसरा नाम क्या है ? भाषा में इसका उपयोग समझाइए।
उत्तर – निपट का दूसरा नाम अवधारक है। किसी भी बात पर अतिरिक्त बल देने के लिए जिन शब्दों का प्रयोग किया जाता है ,वे ‘अवधारक’ कहे जाते है। जैसे : “पापा ने मात्र अंगूर ही खरीदे। ” इस वाक्य में “मात्र ” शब्द बात पर बल देने के लिए प्रयोग किया गया है , अतः इन्हे अवधारक कहा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *